घर बैठे थ्री-डी सिनेमा का आनंद उठायें, बिना थ्री-डी टीवी के, 30 रुपयों से भी कम में..

एक लंबे अंतराल के बाद ब्लॉग पर कुछ लिखना हो रहा है, तो मैनें सोचा कि कुछ ऐसा लिखा जाय जिससे पाठकों को कुछ लाभ हो। आजकल त्रिविमीय (थ्री-डी) फिल्में बहुत चर्चित हो रही हैं। ’ऐवेटॉर (अवतार)’ की भारत में बेहद सफलता के बाद यह विधा लोकप्रिय हुई थी, और ऑस्कर विजेता ’लाइफ ऑफ पाई’ के बाद इस विधा का क्रेज और अधिक बढ़ गया है।   

आप में से जिन लोगों ने थियेटर में त्रिविमीय सिनेमा का आनन्द लिया होगा, वे उस शानदार अनुभूति के बारे में सोचकर आज भी आनन्दित हो उठते होंगे, जब पहली बार कोई तीर मानों स्वयं उन्हीं को आकर लगा होगा, या जेक सली के अवतार के साथ जब उन्होंने इकरान की पीठ पर पांडोरा के पहाड़ों की यात्रा की होगी। थ्रीडी सिनेमा के टिकट सामान्य से ड्योढ़े-दुगुने महँगे अवश्य होते हैं, लेकिन उस रोमांच के लिये इतना खर्च करना ग़ैरवाज़िब नहीं लगता।

समस्या उनके साथ है, जिनके शहरों में थ्रीडी सिनेमा न हों। वे थ्रीडी टीवी खरीद सकते हैं, लेकिन दुर्भाग्यवश अभी बाजार में जो सस्ते से सस्ते थ्रीडी टीवी के मॉडल उपलब्ध हैं, वे भी पचास हजार रुपयों के नीचे नहीं हैं।

लेकिन इन समस्याओं का मतलब यह नहीं कि आपको थ्रीडी सिनेमा (या तस्वीरों) का आनन्द उठाने का अधिकार नहीं है। सिर्फ़ थोड़ी सी आँखों की कसरत से आप आसानी से घर बैठे शून्य या न्यूनतम खर्च में थ्रीडी का आनन्द ले सकते हैं.. न तो किसी थ्रीडी सिनेमाहाल में जाने की जरूरत है, न ही महँगी टीवी खरीदने की। कैसे..? आइये देखते हैं..

सबसे पहले यह जानने की कोशिश करते हैं कि हमारी आँखें कैसे काम करती हैं..

आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि सामान्य धारणा के विपरीत हमारी आँखें थ्रीडी नहीं देख सकतीं.. हमारी आँखें कैमरे की तरह काम करती हैं- पुतलियाँ लेंस की तरह और रेटिना (जिसपर प्रतिबिंब बनता है) कैमरे की फिल्म या पर्दे की तरह। रेटिना पर बना यह प्रतिबिंब द्विआयामी (2डी) होता है। लेकिन जब हम दोनों आँखों से देखते हैं, तो हमें एक ही वस्तु के दो अलग दृष्टिकोण से (चूँकि दोनों आँखें थोड़ी दूरी पर स्थित हैं) चित्र मिलते हैं। दोनों चित्रों में वस्तु की लम्बाई-चौड़ाई का समान, लेकिन तीसरी विमा (गहराई) का अलग-अलग ज्ञान प्राप्त होता है। मस्तिष्क के विजुअल कॉर्टेक्स दोनों चित्रों को मिलाकर एक संयुक्त चित्र बनाते हैं जिसमें हमें तीसरी विमा का भी आभास होता है।


एक ही वस्तु के दोनो आँखों से अलग-अलग प्रतिबिंब

यही सिद्धांत अपनाकर थ्रीडी सिनेमा को एक द्विआयामी पर्दे पर दिखाया जाता है। थ्रीडी सिनेमा की सभी प्रचलित तकनीकों में दोनों आँखों को एक ही वस्तु/घटना के दो अलग-अलग दृष्टिकोणों से अलग-अलग चित्र दिखाये जाते हैं और बाकी का काम दिमाग पर छोड़ दिया जाता है कि वह दोनों चित्रों को मिलाकर एक संयुक्त चित्र का निर्माण करे जिससे दर्शक को यह आभास हो कि वह एक निष्क्रिय व्यक्ति की तरह सिनेमाहाल में बैठा कैमरे द्वारा खींचे गये द्विआयामी चित्र नहीं देख रहा है, बल्कि सिनेमैटोग्राफर की जगह स्वयं फ्रेम में खड़ा अपनी आँखों से त्रिआयामी चित्र देख रहा है। अलग-अलग तकनीक में अलग-अलग विधि से यह कार्य किया जाता है।

 
पैनासॉनिक स्टीरियोस्कोपिक कैमरा
सभी तकनीकों में एक ही फिल्म को दो अलग-अलग (स्टीरियोस्कोपिक) कैमरों से शूट किया जाता है, जो थोड़ी दूरी पर (ताकि दोनों चित्रों में एक कलान्तर Phase Difference हो) एक ही क्षैतिज तल में स्थित होते हैं। एक कैमरे का चित्र बाईं आँख को दिखाया जाता है, और दूसरे कैमरे का दाईं आँख को.. इस प्रकार मस्तिष्क को मूर्ख बनाकर यह वहम स्थापित किया जाता है कि दो कैमरों की जगह दर्शक की दो आँखें लगी हुई हैं। अब ये दो अलग-अलग चित्र अलग-अलग आँखों तक कैसे पहुँचाये जायें, इसी में थ्रीडी सिनेमा की सारी तकनीक छुपी है.. (और सारा खर्च भी). दो मुख्य तकनीकों की चर्चा करना चाहूंगा-

दोनों शीशे अलग-अलग पोलराइजेशन
वाली प्रकाश किरणों को पास करते हैं
पहली तकनीक है पैसिव पोलराइजेशन (निष्क्रिय ध्रुवीकरण), जिसमें दोनों चित्रों की प्रकाश किरणों को दो अलग-अलग प्रकार से ध्रुवीकृत करते हैं और आँखों पर पहना जाने वाला पोलराइज्ड चश्मा केवल एक प्रकार की किरणों को एक आँख तक पहुँचने देता है, और दूसरे प्रकार की किरणों को दूसरी आँख तक.. इस प्रकार एक आँख केवल पहले कैमरे के चित्र देखती है, दूसरी आँख केवल दूसरे कैमरे के...

दूसरी तकनीक है एक्टिव शटर तकनीक.. इसमें पहना जाने वाला चश्मा विशेष एलसीडी काँच का बना होता है जो क्रमागत रूप से एक सेकेन्ड में प्राय: 30 बार ऑन-ऑफ होता है। जब बाँई आँख का शीशा ऑन होता है तब दाईं आँख का ऑफ, और ऐसे ही दूसरी आँख का भी.. पर्दे पर चल रहे फ्रेम भी इसी प्रकार समयबद्ध होते हैं कि जब 1,3,5,7.. फ्रेम चल रहे हों तब बायां शीशा ऑन हो और 2,4,6,8.. फ्रेम के समय दायाँ शीशा। विषम फ्रेम पहले कैमरे से शूट किये होते हैं और सम फ्रेम दूसरे कैमरे से..
एक्टिव शटर में शीशे की जगह
एलसीडी काँच का प्रयोग होता है

उपरोक्त दोनों तकनीकों में विशेष प्रोजेक्टर/पर्दे/चश्मों की जरूरत होती है, अत: इन्हें घर पर आसानी से नहीं देखा जा सकता। हालाँकि दूसरी तकनीक पर आधारित स्मार्ट 3D टीवी बाजार में उपलब्ध हैं, लेकिन वे बहुत महँगे हैं.. तो तीसरी तकनीक अपनानी पड़ेगी.. उसी तकनीक का जिक्र मैं करने वाला हूँ..

एक जगह और रुकते हैं.. पहले थोड़ा स्टीरियोस्कोपिक तकनीक के बारे में जान लिया जाय.. इसमें एक ही ऑब्जेक्ट के दो अलग-अलग दृष्टिकोणों से चित्र लिये जाते हैं। जैसे मैनें अपने बालकनी से सामने वाली गली की दो तस्वीरें लीं-


पहली तस्वीर
दूसरी तस्वीर- हल्का सा दाहिने हटकर























दोनों तस्वीरों का स्टिरियोस्कोपिक एडजस्टमेंट करने के बाद

अब इस चित्र को सस्ते तरीके से त्रिआयामी रूप में देखने के दो तरीके हैं। पहला तरीका है आँखों पर जोर डालकर देखने का, जिसे क्रॉस-आई तकनीक कहते हैं (Cross-Eyed 3D)..



क्रॉस-आई तकनीक में आँखों को चित्र की सामान्य दूरी से नजदीक फोकस किया जाता है ताकि दाईं आँख से बायाँ चित्र, और बाईं आँख से दाँया चित्र देखा जाय। थोड़ी देर ऐसा प्रयास करने पर दोनों चित्र एक दूसरे से दूर विस्थापित होंगे, और बीच में दो अन्य चित्र दिखने लगेंगे.. फोकस थोड़ा और करीब लाने पर बीच के दोनों चित्र एक दूसरे में विलीन हो जायेंगे.. अब फोकस बनाये रखते हुए आँखों को थोड़ा शिथिल(Relax) करने पर बीच वाला चित्र अचानक से चमक उठेगा, और आपको उस चित्र में तीनों विमाओं के दर्शन होंगे। बचपन में हममें से ज्यादातर ने कभी-न-कभी आँखों से ऐसे खेलने की कोशिश जरूर की होगी। अगर आप अब भी ऐसा कर पाने में काबिल हैं, तो नीचे दिये गये चित्रों का आनन्द उठायें। अगर आप पहले ऐसा कर पाते थे, लेकिन अभी आप आँखों को फोकस कर पाने में थोड़ी दिक्कत का अनुभव कर रहे हैं, तो उनके नीचे दिये गये वीडियो ट्यूटोरियल पर जायें (साभार- यू-ट्यूब)। अगर आपको पता ही न हो कि क्रॉस-आई किस बला का नाम है, तो इस विकी-हाऊ पेज पर जाकर थोड़ा होमवर्क करें, और फिर यहाँ वापस आयें। और अगर आप तमाम कोशिशों के बाद भी ऐसा कर पाने में असफल हैं तो अगली तकनीक सुनने तक धैर्य रखें..।


जूनियर प्रशांत पोज देते हुए

गली का एक और दृश्य- गहराई के कई स्तर देखिये

चिड़ियों के पंखों पर गौर फरमाइये

पीछे की इमारत पर पड़ती धूप देखिये

एक सुंदर मक्खी




आप में से कुछ लोग बामुश्किल 20 सेकेण्ड में क्रॉस-आई देख पाने में सफल हो जायेंगे, कुछ को थोड़ी मेहनत और 4-5 मिनट लगेंगे, कुछ अगले दिन ऐसा कर पाने में सक्षम होंगे, कुछ कभी नहीं कर पायेंगे.. ऐसे Wall-Eyed लोगों के साथ मेरी सहानुभूति.. J लेकिन यह समझना कोई रॉकेट साइंस नहीं है कि लंबे समय तक ऐसा कर पाना संभव नहीं है, और न ही आप लोगों को मैं क्रॉस-आई रूप से थ्रीडी फिल्म देखने की सलाह दूँगा। इस प्रकार आप लोगों की आँखे फुड़वाकर मुझे बद्दुआयें नहीं लेनीं..

अब इस पोस्ट का मुख्य विषय शुरु होता है। बिना आँखें फोड़े न्यूनतम खर्च (10 रुपये से लगायत अपनी-अपनी श्रद्धानुसार) में जिस तरीके से थ्रीडी फिल्मों का अपने कम्प्यूटर/सामान्य टीवी पर आनन्द उठाया जा सकता है, उस विधा का नाम है- एनाग्लिफ तकनीक (Anaglyph Technique).. इसमें उन्हीं दो स्टिरियोस्कोपिक तस्वीरों को विशेष ऑप्टिकल फिल्टर द्वारा प्रॉसेस किया जाता है, जिससे दोनों तस्वीरें अलग-अलग रंगों में कोडीकृत की जाती हैं और इन्हें एक-दूसरे पर अध्यारोपित(Superimpose) कर दिया जाता है। इसे एक विशेष चश्मे से देखा जाता है, जिसके दोनों शीशे अलग-अलग रंगों के बने होते हैं (सबसे प्रचलित रंग हैं लाल-सयान Red-Cyan, क्रमश: बाईं और दाईं आँख के लिये)। इस विधि से थ्रीडी का आनन्द उठाने के लिये आपको इन चीजों की जरूरत पड़ेगी-

  1. के-एम प्लेयर प्लस या स्टिरियोस्कोपिक प्लेयर। मैं पहले वाले की सिफारिश करूँगा। केएम प्लेयर एक बेहतरीन फ्रीवेयर मीडिया प्लेयर है,जिसे नि:शुल्कयहाँ से डाउनलोड किया जा सकता है।
  2. एक थ्रीडी सिनेमा। बहुत सारी पी2पी (टॉरेंट) वेबसाइट हैं, जहाँ से आप ये फिल्में डाउनलोड कर सकते हैं, जैसे पाईरेट-बे या किक-एस टॉरेंट | यहाँ जाकर आप फिल्म के नाम के साथ Anaglyph या HSBS लगाकर सर्च कर सकते हैं और सही टॉरेंट डाउनलोड कर सकते हैं। जैसे कि Avatar HSBS या Toy Story Anaglyph। यह अवश्य ध्यान दीजिये कि Anaglyph डाउनलोड करते समय Red-Cyan प्रिंट ही डाउनलोड कीजिये, अन्यथा सारा मजा किरकिरा हो जायेगा। वैसे सबसे बढ़िया होगा कि आप HSBS प्रिंट ही डाउनलोड करें और उसे केएम प्लेयर में देखें। परंतु यदि आप अपने टीवी पर डीवीडी प्लेयर द्वारा देखना चाहते हैं, तब आपकी मजबूरी है कि Anaglyph प्रिंट डाउनलोड कर उसे डीवीडी पर बर्न कर देखें। आप पहले सैंपल अवश्य डाउनलोड कर लें। ये सैंपल ऐसे दिखने चाहिये- 

लाइफ ऑफ पाई का HSBS प्रिंट

लाइफ ऑफ पाई का Anaglyph प्रिंट
  3. आखिरी, लेकिन सबसे महत्वपूर्ण- एक Red-Cyan थ्रीडी चश्मा। यह आप स्वयं बना   
     सकते हैं, या अपने बच्चे को बनाने के लिये कह सकते हैं, बशर्ते-
      a.   आप शादीशुदा, एक बच्चे के पिता/माता हों,
b.   वह बच्चा पर्याप्त रूप से छोटा हो और उसे क्राफ्ट में रुचि हो,
c.   वह आपकी बात मानता हो।

मेरा प्लास्टिक का चश्मा
यह चश्मा कैसे बनाया जाय, यह जानने के लिये नासा के इस लिंक पर जायें। और अगर आप ऊपर की शर्तों पर खरे न उतरते हों तो eBay पर उपलब्ध इन चश्मों में से कोई भी मँगा सकते हैं, कैश ऑन डिलिवरी भी उपलब्ध है। यह अवश्य बता दूँ, कि 20-30 रुपये के कागज वाले चश्मे 100-200 रुपयों वाले से काफी बेहतर हैं, और अविश्वसनीय रूप से अच्छा प्रदर्शन करते हैं। आप यदि एक बार इनसे संतुष्ट हो जायें तो nVidia वाले चश्मे भी मँगा सकते हैं।



सस्ता वाला  चश्मा, थोड़ा इंप्रोवाइजेशन, पहले से बेहतर
एक बार सारी चीजें उपलब्ध हो जायें तो आप थ्रीडी का आनन्द लेने को तैयार हैं। यदि आपने एनाग्लिफ प्रिंट डाउनलोड किया है तो उसे वीएलसी या केएमप्लेयर में चलायें, और चश्मा लगाकर देखें। और यदि आपने HSBS प्रिंट डाउनलोड किया है तो स्टीरियोस्कोपिक प्लेयर में व्यूà व्यूइंग मेथडà एनाग्लिफà हाफ कलर एनाग्लिफ (रेड-सयान) सेलेक्ट करें, या केएमप्लेयर प्लस में केवल नीचे बाँई तरफ मौजूद 3D बटन पर क्लिक करें।

केएम प्लेयर प्लस में 3डी बटन

स्टीरियोस्कोपिक प्लेयर हेतु निर्देश



आप पायेंगे कि दोरंगे चश्मे से देखने के कारण आपको प्राकृतिक रंग नहीं दिख रहे होंगे। यह इस तकनीक की कमी है, जिसे कुछ हद तक रंग संयोजन के द्वारा ठीक किया जा सकता है। यदि आप के कम्प्यूटर में इंटेल का ग्राफिक कार्ड लगा है तो आप ग्राफिक प्रॉपर्टीजà कलर एनहैंसमेंट में जायें, तथा-
  1.   All Colors के लिये सैचुरेशन 18, तथा कंट्रास्ट को 55 पर सेट करें।
  2. Blue के लिये सैचुरेशन को 0 कर दें। यदि पिक्चर में अब भी नीलापन आ रहा हो तो सैचुरेशन को और निगेटिव ले जायें।
  3. एक बार अंदाजा मिल जाने पर आप अपने हिसाब से रंगों को स्वयं संयोजित कर सकते हैं।
 
पहले All Colors के लिये सेट करें, फिर Blue के लिये
अब आप थ्रीडी का आनन्द उठा सकते हैं। प्रश्नों/समस्याओं/टिप्पणियों का स्वागत है। इसे एक बार ट्राई अवश्य करें। मेरा वादा है, आप निराश नहीं होंगे। यदि आपने ट्राई किया है तो अपना अनुभव अवश्य साझा करें..         
       
10 Responses
  1. फ़िलम विलम देखने की तो बाद में सोचेंगे, ब्लॉग पर लौटने की बधाई दे रहे है भाई।


  2. बढ़िया जानकारी, अवश्य देखते हैं..


  3. बहुत ही रोचक और ज्ञानभरी जानकारी..


  4. Samajhne me to kathin lag raha hai, par hai majedar. Cross-Eye 3D wala to bahut hi exciting hai. Bas ye hai ki aankhein salamat rahein.


  5. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार (27 -4-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!


  6. वाह, बहुत बढ़िया जानकारी.


  7. बहुत दिनों बाद आये. बढ़िया जानकारी है.


  8. बहुत ढंग से बताया है आपने! बेहतरीन जानकारी। ब्लॉग फिर से सक्रिय हुआ, बधाई!


  9. ankit kumar Says:

    kartikeya bhai..... maine 3D videos download karke KM player me play ki but wo play nahin hoti.. aur jo videos play hoti hain wo 3D glasses lagakar bhi normal dikhti hain... pls help


  10. @अंकित.. केएमप्लेयर से काम नहीं चलेगा.. केएमप्लेयर प्लस डाउनलोड करना होगा| साथ ही उसके बाएँ निचले कोने पर बने 3D बटन पर क्लिक करना होगा|


मेरे विचारों पर आपकी वैचारिक प्रतिक्रिया सुखद होगी.........

शेयर करें

    अपनी खबर..

    My photo
    पेशे से पुलिसवाला.. दिल से प्रेमी.. दिमाग से पैदल.. हाईस्कूल की सनद में नाम है कार्तिकेय| , Delhi, India

    अनुसरणकर्ता

    विजेट आपके ब्लॉग पर

    त्वम उवाच..

    कौन कहाँ से..